भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिम नहीं यह / जगदीश गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिम-जलद, हिम-श्रृंग
हिम-छिव,
हिम-दिवस, हिम-रात,
हिम-पुलिन, हिम-पन्थ;
हिम-तरू,
हिम-क्षितिज, हिम-पात।

आँख ने
हिम-रूप को
जी-भर सहा है।
सब कहीं हिम है
मगर मन में अभी तक
स्पन्दनों का
उष्ण-जलवाही विभामय स्त्रोत
अविरल बह रहा है

हिम नहीं यह -
इन मनस्वी पत्थरों पर
निष्कलुष हो
जम गया सौन्दयर्।

यह हिमानी भी नहीं -
शान्त घाटी में
पिघल कर बह रही
अविराम पावनता।

आैर यह सरिता कि जैसे
स्नेह का उद्दाम कोमल पाश
अनगिनत प्रतिबम्ब रच कर
बाँधती हो भूमि से आकाश।