भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिलि-मिलि गाइये लेहो / चन्दरदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

॥सोहर॥

हिलि-मिलि गाइये लेहो, हरि-गुण गाइये लेहो न।
ललना रे! जेहो विधना लिखल लिलार,
सेहो कौन मेटतै ए॥1॥
पुरब जनम केरो पातक, सेहो फलल-फूलल ए।
ललना रे! जम मरण केर विपति से,
कैसे तोर छुटतै ए॥2॥
कहाँ से आयली एक डगरिनी, छूरिया चलावली ए।
ललना रे! भैया मोर निठुर अपार से,
जननी भेल बैरिन ए॥3॥
बाबा मोर धावल आयल, छड़ी चमकावल ए।
ललना रे! पापी पकरै यमराज से,
धरमी के बचाएल ए॥4॥
‘चन्दर दास’ सोहर गावल, गावी के सुनावल ए।
ललना रे! भलि ले हो श्रीगुरु के नाम से,
जनम नगिचायल ए॥5॥