भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिले-डुले कर्णफूल /राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिले-डुले
कर्णफूल
हिले पात तन के !

                दिशि-दिशि
                बन्ध गए नयन
                गरजे घन मन के !

ठगे खड़े
खग-मृग
सज गए साज वन के !

                वासन्ती
                विहँसी
                खिल गए प्राण जन के !

बन्द कोष
खुले
कण बिखरे यौवन के !

                शत-शत गत
                वर्ष हुए
                दास एक क्षण के !