भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हीला और हवाला दे / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हीला और हवाला दे ।
आख़िर कौन उजाला दे ?

मैं अमीर हूँ, जीने को
मुझको देश निकाला दे ।

ख़ुशियाँ उल्टे पाँव गईं
कोई ज़ख़्म निराला दे ।

मन में छुरी छुपाए जो
बाहर कंठी माला दे ।

मैं दुनिया से क्यूँ माँगूँ
जो दे, अल्ला ताला दे ।

गई रात की बात गई
अब दिन नया रिसाला दे ।