भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ही अथव / अरुण ॿाॿाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ही अथव
मुराद ऐं तमन्ना जूं धीअरूं
वॾे में वॾी थसि बेसुधी
जंहिं जो घरेलू नालो आहे निंडाखिड़ी
हूअ पंहिंजी
ॿीअ भेण सां जुड़ियल आहे
जंहिं खे चवनि भिटिकियल
ही ॿ भेनरूं
तमन्ना जूं
पहिरियूं वॾियूं धीअरूं आहिनि।
तंहिं खां पोइ विच वारी
जंहिं जो नालो अहंकारी
जेका, निंडाखिड़ी ऐं भिटिकियल सां
लॻो लॻि जुड़ियल आहे

ऐं पंहिंजी नंढिड़ी भेण लोभीअ जी
सुठी साहेड़ी आहे।
बेसुधी भिटिकण वञे
अहंकारीअ ऐं लोभीअ सां
तॾहिं नंढे में नंढी
वासना
बि ज़िदु करे हलण लाइ
पोइ त ॼणु ज़लज़लो मची पवे
ज़िन्दगी, जा हिकु उत्सउ हुई
मसइलो थी पवे।