भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हुआ है अहल-ए-साहिल पर असर क्या / महेश चंद्र 'नक्श'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुआ है अहल-ए-साहिल पर असर क्या
तुझे ऐ डूबने वाले ख़बर क्या

वही है चश्म-ए-नर्गिस का तहय्युर
नहीं गुलशन में कोई दीदा-वर क्या

सफ़ीना क्यँू तह-ए-गर्दाब आया
तलातुम-ख़ेज़ मौजों को ख़बर क्या

निगाह ए लुत्फ़ का गगनून है दिल
मगर ये पुर्सिश-ए-बार-ए-दिगर क्या

न जाना जिस ने राज़-ए-मर्ग-ओ-हस्ती
वो क्या समझे के है तेरी नज़र क्या

बहुत दुश्वार थी राह-ए-मोहब्बत
हमारा साथ देते हम-सफ़र क्या

सितारों की भी उम्रें हो गई ख़त्म
न होगा क़िस्सा-ए-ग़म मुख़्तसर क्या

सहर अपनी न अपनी शाम ऐ ‘नक्श’
किसी मजबूर के शाम ओ सहर क्या