भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हूबहू हिन ज़िंदगीअ जहिड़ो हुओ / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हूबहू हिन ज़िंदगीअ जहिड़ो हुओ।
दोस्त जो रुख़ दुश्मनीअ जहिड़ो हुओ॥

हुन जो पोयां कपु हणी मुरिकी ॾिसणु।
कुहिने फट जी ताज़गीअ जहिड़ो हुओ॥

चूरु थियणो ई हुउसि कंहिंजे हथां।
सभ सां वहिंवारु आरसीअ जहिड़ो हुओ॥

हर फ़साने में मां मारियो ई वियुसि।
मुंहिंजो किरदार आदमीअ जहिड़ो हुओ॥

पंहिंजे पाछे भी थे छिरिकायो कमल।
शहरु ऊंदाहीं घिटीअ जहिड़ो हुओ॥