भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हेत / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिरखा में नीं गळ्या होवैला
तावड़ै नीं पिघळ्या होवैला
थंारै मगरां ही मांडी
होठां री सैनाणी म्हारी।
 
हां, आज ई उळझै
म्हारै कमीज रै बटण मांय
थांरो एक लांबो बाळ
आज ई ब्याळ-बगत
यादां रा जुगनू
नै’र रै पार तांई
पळकता दीसै।
 
एक हेत
अर एक विस्वास
हर्यो राखै झिरक
जिंदगाणी नैं
आज ई।