भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हे मन रामनाम चित धौबे / भीखा साहब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हे मन रामनाम चित धौबे।।
काहे इतउत धाइ मरत हव अवसिंक भजन राम से धौबे।
गुरु परताप साधु के संगति नाम पदारथ रुचि से खौबे।।
सुरति निरति अंतर लव लावे अनहद नाद गगन घर जौबे।
रमता राम-सकल घर व्यापक नाम अनन्त एक ठहरौबे।।
तहाँ गये जगसों जर टूटत तीनतान गुन औगुन नसौबे।
जन्मस्थान खानपुर बोहना सेवत चरन भिखानन्द चौबे।।