भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हे राम फिर ले जनम / ओम प्रकाश सेमवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

त्रेता मा एकी तबै मारि सकि छौ तिन रावण हे श्रीराम।
जख देखा रावणै रावण भौत ये कळजुग हे श्रीराम।
बणौ फेर पलटण सजौ सेना हनुमान सुग्रीव हे श्रीराम।
जु छन बैरि दुष्ट समाजा सिखौ तौं सबक मार हे श्रीराम।