भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हैलमेट / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक छुपा हुआ ऐलान है इसकी ठनक में
ख़तरे घर में नहीं घर से बाहर हैं
और बुद्धिमानी इसी में है कि जहाँ ज़रूरी है
वहीं ठीक है ख़तरों से खेलना

नियमों की किताब लिये यह हर जगह साथ रहता है
चिकनी-चौड़ी सड़क हो या ऊबड़-खाबड़ पगडंडी
छोटा-मोटा कारखाना हो या विशाल संयंत्र
युद्ध का मैदान हो या क्रिकेट की पिच
हर जगह अपनी उपस्थिति से मौत को डकारता है

आकस्मिक मृत्यु से बचाव का यह उपाय
जिस किसी के मन में पहली बार आया होगा
अपनी हथेलियों की शक्ल में इसे ढाला होगा उसने
धातु ने अपना वर्चस्व सिद्ध किया होगा हड्डियों पर
लोहे ने हैलमेट का रूप लिया होगा

कारखाने में जन्म लेने से पहले
मस्तिष्क में जन्मी होगी इसकी आकृति
फिर आया होगा यह अपने जन्मदाता की रक्षा के लिए

मनुष्य का असुरक्षा-बोध है इसका आविष्कारक
यह आक्रमण से पूर्व बचाव का पक्षघर है
गजब का आत्मविश्वास पैदा करता है यह
अपने धारणकर्ता के मन में
जरा सी अति होते ही जिसके
अहंकार में बदल जाने में देर नहीं लगती

वर्दी की शह पर यह कभी अपने खेल दिखाता है
रक्षक के बिम्ब में पैंतरा बदलकर हत्यारा बन जाता है
जाने कितने रूप कितने रंग कितने नाम हैं इसके
फिर भी अपने स्थायी स्वभाव में यह
बच्चों के लिए पिता के सकुशल घर लौटने का भरोसा है
कारखाने के मालिक के लिए अधिक उत्पादन की गारंटी
स्त्रियों के लिए उनके सुहाग का रक्षक

बावजूद इसके किसी बेकार बुजुर्ग की तरह
घर के किसी कोने में यूँ ही पड़ा हुआ
बाजदफा आत्मा पर गुनाह के बोझ की मानिंद
शरीर पर महसूस होता है
भूलकर घर लौटने वाली वस्‍तुओं की सूची में यह शामिल
मनुष्य की पहचान छुपा लेने में माहिर है

गंजों की चाँद ढाँककर हर किसी को
अंतरिक्ष यात्री बनने का भ्रम देता हुआ

सांसारिक भय से सामना करने का दर्शन है यह
इस पर जमती हुई धूल में
वक़्त अपनी बेरोज़गारी के दिनों का हिसाब लिखता है
पल-पल नष्ट होते संसार में

आत्मरक्षा का मौलिक विचार
सदैव बचा रहेगा अपनी बदलती हुई शक्ल में
जब यह शीश नहीं होगा तब भी बचा रहेगा हैलमेट
अपने भीतर अंधेरे में एक चेहरा छुपाए
देखता रहेगा जीने की आपा-धापी में मनुष्य की भागदौड।