भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

है दरख़्तों की शायरी जंगल / वर्षा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है दरख़्तों की शायरी जंगल ।
धूप-छाया की डायरी जंगल ।

हो न जंगल तो क्या करे कोई
चाँद-सूरज की रोशनी जंगल ।

बस्तियों से निकल के देखो तो
ज़िन्दगी की है ताज़गी जंगल ।

फूल, खुशबू, नदी की, झरनों की
पर्वतों की है बाँसुरी जंगल ।

दिल से पूछो ज़रा परिंदों के
ख़ुद फ़रिश्ता है, ख़ुद परी जंगल ।

नाम ‘वर्षा’ बदल भी जाए तो
यूँ न बदलेगा ये कभी जंगल ।