भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

है राह-रौ के हुए हादसात की दीवार / हनीफ़ कैफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है राह-रौ के हुए हादसात की दीवार
गिराए कौन ये गर्द-ए-हयात की दीवार

सहर हमारे मुक़द्दर से दूर होती गई
बुलंद होती गई रोज़ रात की दीवार

मिटे जो ये हद्द-ए-फ़ासिल तो आप तक पहुँचें
हमारे बीच में हाइल है ज़ात की दीवार

अना अना के मुक़ाबिल है राह कैसे खुले
तअल्लुक़ात में हाइल है बात की दीवार

न जाने कौन से झोंके में गिर पड़े ‘कैफ़ी’
शिकस्ता होने लगी है हयात की दीवार