भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होड / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेत मांय
सूड़ करता
करसा री गंडासी
इयां बाजै
जियां
बाजता हुवै
साज,
मन मोदीजै
वां रो
कातीसरै री कल्पना सूं।

गांव रै आथूण
लीलकी खैण माथै
सब्बल अर हथौड़ रै
जोर सूं
हिचकै मिनख
अर जुगाड़ करै
उग्यै-आंथण री दरकार री

गांव रै बीचूं बीच
बणती, रूघै बाणियै री हेली।

कारज करतै चैजारी री
करणी/पळका मारै
उगतै सूरज रै चानणै सूं
अर चैजारौ/होड करै
बाणियै रै/रूपियां री चमक सूं
पण रूपिया अर करणी री
छैती बधती जायरैयी है
लगोलग!