भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होलर का बाबा / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

होलर का बाबा यूँ कहै-
तुम खरचो दाम बतेरे

होलर की दादी ये कहै-

होलर कै हुण्डी लाया

सिर ते सरफुल्ला आया

पैरों से नंगा आया

हाथों की मुट्ठी भींच कै

सिर पै झण्डूले लाया ।

होलर का ताऊ यूँ कहै-
तुम खरचो दाम बतेरे

होलर की ताई यूँ कहै-

होलर कै हुण्डी लाया

सिर ते सरफुल्ला आया

पैरों से नंगा आया

हाथों की मुट्ठी भींच कै

सिर पै झण्डूले लाया ।
>>>>>>>>>>>>>>>>

1-होलर =नवजात शिशु
2-सरफुल्ला =नंगे सिर
3-झण्डूले = बच्चे के सिर के नवजात बाल