भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होश ओ ख़िरद से बेगाना बन जा / सिकंदर अली 'वज्द'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होश ओ ख़िरद से बेगाना बन जा
हर फ़स्ल-ए-गुल में दीवाना बन जा

आ दिल की बस्ती आबाद कर दे
इक शब चराग़-ए-वीराना बन जा

ख़लवत में क्या है जल्वत में गुम हो
ज़िंदा हक़ीक़त-ए-अफ़्साना बन जा

बे-सोज़ है बज़्म-ए-इल्म-ओ-दानिश
शम-ए-यकीं का परवाना बन जा

कितनी पिएगा जाम ओ सुबू से
मस्त-निगाह मस्ताना बन जा