भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हो गए जज्बात सब पत्थर / प्रताप सोमवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो गए जज्बात सब पत्थर मगर बोलूंगा मैं,
है तुम्हारे हाथ में खंजर मगर बोलूंगा मैं|

तू समझ दीवानगी या और कोई नाम दे,
वो गया है बात ये कहकर मगर बोलूंगा मैं|

भीड़ से कोई अलहदा बात होनी चाहिए,
सब रहे खामोश बुत होकर मगर बोलूंगा मैं|

बेबसी हो मुफलिसी या दूसरी मजबूरियां,
रोकती हैं ये सभी अक्सर मगर बोलूंगा मैं|

बोलने की सजा जो यह हुआ माहौल है,
कत्लो-गारत लाश का मंजर मगर बोलूंगा मैं|