भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हो दिल्ली में बिक रही छींट / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो दिल्ली में बिक रही छींट छींट लेते आइयो
मेरठ में चलै मसीन वहीं सिलवाइयो
रास्ते में म्हारा गाम वहीं डट जाइयो
मेरा बाबा काढ़ै धार, नमस्ते करियो
मेरी अम्मा फेरे हाथ नीचे को नव जाइयो
मेरी भाभी की बजनी टूम बिदक मत जाइयो