भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हो हल्ला और धूल के, गुबार के बीच / कपिल भारद्वाज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो हल्ला और धूल के, गुबार के बीच,
क्रोध से दीपदीपाते, विकृत चेहरों के बीच,
घृणित हंसी और फूहड़ मजाकों के बीच,
तकलीफदेह नारों व तामसी अट्टाहास के बीच,
लेनिन की वो मूर्ति, जमींदोज हो रही थी ।

पर जमीन पर गिरने से पहले, उसकी मुस्कुराहट,
निविड़ अंधकार में, एक छोटे दीये सी चमकी,
जिसकी रौशनी की किरचें,
नकली नारों की बैशाखी लिए खड़े,
लोगों की आंखों में गड़ गयी ।