भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ॿिनि मिनटनि जो थइ मेलो / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ॿिनि मिनटनि जो थइ मेलो
उतां आऐं मनुष अकेलो हितां वेंदें मनुष अकेलो

कूड़ी दुनिया मां की कीन नीदें
आखि़र मिटीअ जा मिटीअ में मिलंदें
हाइ हाइ केंदें पोइ छा थींदो
मतां मूर्ख थियें तूं ॻहेलो

तुंहिंजो मुंहिंजो अथई इहो साईं
अचु मिड़ठा अची पार लॻाईं
बुछड़ा कर्म करीं दिनि राती
पाए ॾिस तूं अंदर में झाती
पोइ थींदुइ जनम सुहेलो

हीअ ‘निमाणी’ अर्जु करे थी
हथड़ा ॿधी तुंहिंजी शरनि पवे थी
नाम जे दान जो ॾे तूं गोलो
पोइ नाहे भव को भोलो