भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

’स’ के प्रति / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाय की मेज़ पर यों ज़ोर-ज़ोर मत हँसो
भीड़ों में मस्ती बेपरवाही से मत धँसो
तुम्हें भी तो दर्द कहीं होगा ज़रा उसे कहो
मत सहो, यों मेरे मित्र, अरे, मत सहो ।