भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

...पण याद राखजै / मोनिका गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बदळतै बगत रै बायरै साथै
खिर रैयी है रिस्तां री मिठास
नी रैया मिनख, नीं मिनखीचारो
ना हिवड़ै में हिंवळास
बाजार रै चौरायै ऊभी संवेदना
बणा दियो हर मानखै नैं अवसर
हर रिस्तै नैं पगोथिया
जका चावै फगत नाम, दाम अर चाम
किचरीजो भलां ई हेत
मासूमियत
भलमानसी
जींवता रैणा चावै अवसर
तो भाज बावळा
ढूंढ दमदार पगोथिया
पण याद राखजै
ऊंची चढती पेड़्यां
हेटै भी आया करै...।