भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

102 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चूचक आखया जा मनाए उसनूं वयाह तीक तां मही चराए लईए
जदों हीर डोली पाए तोर दिती रूस पवे जवाब तां चाए दईए
सडे पीउ दा कुझ ना लाह लैंदा सभा टहिल टकोर करा लईए
वारस शाह असीं जट सदा खोटे इक जटका फंद वी ला लईए

शब्दार्थ