भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

103 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मलकी जाए के वेहड़े विच पुछदी ए वेहड़ा केहड़ा भाइयां सावयां[1] दा
साडे माही दी खवर है किते अड़ियो किधर मारया गया पछोतावयां दा
जरा हीर कुड़ी उहनूं सददी ए रंग धोवंदी पलंघ देयां पावयां दा
रांझा बोलयां सथरो मन्न आकड़ एह जे पिआ सरदार नथावयां दा
सिर पटे सफा कर सोए रिहा जिबे बालका मुन्नया बावयां दा
वारस शाह जयों चोर नूं मिले वाहर[2] उमे साह मरे मारया हावयां दा

शब्दार्थ
  1. बराबर दे
  2. चोर को ढूँढ़ने वाले लोगों का टोला