भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

123 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन होवे दुपहर ते आए रांझा अते ओधरों हीर भी आवंदी ए
रांझा महीं लया बहांवदा ई ओह नाल सहेलियां आंवदी ए
ओह वंझली नाल सरोद करदा हीर नाल सहेलियां गांवदी ए
काई जुलफ नचोड़दी रांझणे ते काई नाल कलेजे दे लांवदी ए
काई चमड़ी लक नूं मशक बोरी काई मुख नूं मुख नूं मुख छुहांवदी ए
काई मीरियां आख के भज जांदी मगर पवे ते टुबियां लांवदी ए
काई आखदी माहिया माहिया वे तेरी मझ बूरी कटा जांवदी ए
काई मापिआं दिआं खरबूजयां नूं कौडे़ बकबके चा बणांवदी ए
काई आखदी ऐंठया[1] रांझया वे मार बाहुली पार नूं धांवदी ए
मुरदे तारियां तरन चफाल[2] करके काई इक छाल घड़क दी लांवदी ए
कुते तारियां तरन चवाओ[3] करके इक निओल निसर रूड़ी आंवदी ए
इक शरत बधी टुभी मार जाये ते पताल दी मिटी लयांवदी ए
इक बणदा चतरांग मुरगाबियां हो सुरखाब ते कूंज बण आंवदी ए
इक वांग ककूहीयां संघ टडन इक कूंज वांगो बुलांवदी ए
इक ढींग बने इक बने बगला इक बने जलांवनी आवंदी ए
इक औकड़ बोलदी टटिहरी हो इक हो संसार सरलांवदी ए
इक दा पलसेटियां हो बोलहण मशक वांगरां ढिड फुकांवदी ए
हीर तरे चुतरफ ही रांझने दे मोई मछली बन बन आवंदी ए
आप बने मछली नाल चावड़ा दे मिएं रांझे नूं कुरल बनांवदी ए
उस तखत हजारे दे पढड़े नूं रंग रंग दियां जालियां पांवदी ए
वारस शाह जटी नाज नयाज कर के नित याद दा जी परचांवदी ए

शब्दार्थ
  1. अकड़ा हुआ
  2. लाश
  3. खुशी