भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

132 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कई रोज नूं मुलक मशहूर होसी चोरी यारी जो ऐब कुआरियां नूं
जिनां बाण है नचने कुदने दी रखे कौन रंनां हैं सयारियां नूं
उस पा भुलाउड़ा ठगया ए कम पहुंचया बहुत खुआरियां नूं
जदों चाक उधाल लै जाए नढी तदों झूरसो बाजियां हारियां नूं
वारस शाह मियां जिनां लाइयां नी सोई जाणदे डारियां यारियां नूं

शब्दार्थ