भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

139 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उहनूं फाटके कुट चकचूर कीता छालीं लायके पास ते धाइयां ने
हथीं बाल सुआतड़े काहने वडे भांवड़ बाल लैं आइयां ने
झुगी साड़ के भाडड़े भन्न सारे कुकड़ कुतियां चा भजाइयां ने
फौजां शाह दीयां वारसा मार पथर मुड़के फेर लहौर वल आइयां ने

शब्दार्थ