भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

154 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महर देखके दोहां इकठयां नूं गुस्सा खायके होया ई रत बन्नां
एह देखो अपराध खुदाय दा ए बेले विच अकलियां फिरन रन्नां
अखीं नीवियां रख के ठुमक चली कछेमार के चूरी दा थाल छन्नां
चूचक आखया रख तूं जमा खातर तेरे सोटयां दे नाल लिंग भन्नां

शब्दार्थ