भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

157 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुसीं घल देहो तां अहसान होवे नहीं चल मेला असीं आवने हां
गल पलड़ा पा के वीर सभे असी रूठड़ा वीर मनावने हां
असां आयां नूं जे तुसी नाह मोड़ो तदों पयेपक पकावने हां
नाल भाइयां पिंड दे पैंच सारे वारस शाह नूं नाल लै जावने हां

शब्दार्थ