भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

15 अगस्त 1947 / निशांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथ धोते-धोते याद आया
सुबह बिना हाथ धोये खा लिया था रोटी सब्जी

सब्जी खाते वक्त
याद आई थी माँ सुबह-सुबह

सुबह से याद आया
दादा जी बतलाते थे
रात को सोया था हिंदुस्तान में
सुबह पाकिस्तान में खुली थी नींद।