भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

161 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जदों खत दिता लिया कासदे ने नढी हीर ने तुरत फड़ाया ए
सारे मामले अते मिलाप सारे गिला लिखया वाच सुनाया ए
घलो मोड़के दयोर असाडड़े नूं मुंडा रूस हजारयों आया ए
हीर सद के रांझणे यार ताईं सारा मामला खोल सुणाया ए

शब्दार्थ