भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

167 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साडा माल सी सो तेरा हो गया जरा वेखना बरा खुदाइआं दा
तूं ही चटया ते तूं ही पालया ए ना एह बाप दा ते ना एह भाइयां दा
शाहूकार हो बैठी ऐ मार थैली खोह बैठी ऐं माल तूं साइयां दा
अग लैण आई घर सांभो ई एह तेरा है बाय ना भाइयां दा
गुडा हथ आया तुसां गुडियां दे अंनी चूही ते थोथयां घाइयां दा
वारस शाह दी मार ही वगे हीरे जेहा खोह लया वीर तूं भाइयां दा

शब्दार्थ