भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

16 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करे आकड़ां खाके दुध चावल एह रज के खान दीयां मसतियां ने
आखन देवर नाल निहाल होइयां सानूं सभ शरीकनां हसदियां ने
एह रांझे दे नाल हन घयो शकर पर जीउ दा भेत न दसदियां ने
रन्नां डिगदियां देख के छैल मुंडा जिवें शहद विच मखियां फसदियां ने
इक तूं कलंक हैं असां लगा होर सब सुखालियां वसदियां ने
घरों निकलें जदों तूं मरें भुखा भुल जाण तैनूं सभे मसतियां ने

शब्दार्थ