भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

171 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेड़यां भेजया असां थे इक नाई करन मिंनतां चाए एहसान कीचै
भले जट बूहे उते आन बैठे एह छोकरी उन्हां नूं दान कीचै
रल्ल भाइयां एह सलाह दिती किहा असांदा सभ प्रवान कीचै
अन्न धन दा कुझ विसाह नाहीं अते बाहां दा ना गुमान कीचै
जिथे रब्ब दे नाम दा जिकर आवे लख बेटियां चा कुरबान कीचै
वारस शाह मियां नहीं करो आकड़ फरऔण[1] जेहां वल ध्यान कीचै

शब्दार्थ
  1. प्राचीन मिस्त्री बादशाह