भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

173 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिली जा वधाई जा खेड़यां नूं लुडी मारके झुंमरा[1] घत दे ने
छालां मार उपुठियां खुशी होए के लाए मजलसां खेड़दे वत दे ने
भुले कुड़म मिले सानू शरम बाले रजे जट वडे अहिल पत दे ने
वारस शाह दी शीरनी वंडदिआं ने वडे देगचे दुध ते भत दे ने

शब्दार्थ
  1. एक नाच का नाम