भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

180 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रत्न हीर ते आइयां फेर सभे रांझे यार तेरे सानूं घलया ई
खूंडी वंझली कमली सुट धते छड देस परदेस नूं चलया ई
जे तैं अंत ओहनूं पिछा देवना सी ओहदा कालजा कासनूं सलया ई
असां एतनी गल मालूम कीती तेरा निकल ईमान हुण चलया ई

शब्दार्थ