भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

182 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राती विच रलाइके माहिये नूं कुड़ियां हीर दे पास लै आइयां नी
हीर आखया औंदे नूं बिसमिला[1] अज दौलतां मैं घर आइयां नी
रांझे आखया हीर दा वयाह हुंदा असीं वेखणे आइयां माइयां नी
सूरज चढ़ेगा मगरबों[2] जिवें कयामत तौबा तरक कर कुल बुराइयां नी
जिन्हां मही दा चाक सां सुणी नढी सोई खेड़यां दे हथ आइयां नी
ओसे वकत जवाब है मालकां नूं हिक धाड़विआं अगे लाइयां नी
एह सहेलियां साक ते सैन तेरे सभे मासीयां फुफीयां ताइयां नी
तुसां वहुटियां बण दी नीत बधी लीकां हद ते पज के लाइयां नी
आस असां दी केही है नढीए नी जिथे खेढ़यां जरां वखाइयां नी
वारस शाह अलाह नूं सौंपियों तूं सानूं छड के होर र लाइयां नी

शब्दार्थ
  1. बिस्मिल्लाह, अल्लाह के नाम से शुरू करना
  2. मगरिब