भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

183 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेड़यां साहा कढाएया बेहमनां तों भला थित महूरत ते वार मियां
नावीं सावनों रात सी वीर वारी लिख घलया एह दिन वार मियां
पहर रात नूं आन नकाह लैना ढिल लावनी ना जिनहार[1] मियां
उत्थे खेड़यां पुज समान कीता होये सियाल वी तुरत नयार मियां
वारस शाह सरबालड़ा नाल होया हथ तीर गानाते तलवार मियां

शब्दार्थ
  1. तुरंत