भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

226 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक वहुटड़ी साहुरे चली सयालीं आई हीर तों लैन सुनेहयां नूं
तेरे पेकड़े चली हां एह गलों खोलह किसयां जेहयां केहयां नूं
तेरा सहुरयां तुघ प्यार केहा ताजे करे सुनहेड़ा बेहयां नूं
तेरा गभरू नाल प्यार केहा बहुछियां दसदियां ने असां जेहयां नूं
हीर आखदी ओस दे गल एवें वैर रेशमां नाल ज्यों लेहयां नूं
वारस गाफ[1] ते अलफ ते लाम बोले[2] होर की आखां एहयां तेहयां नूं

शब्दार्थ
  1. गाली
  2. गाली-गलौच