भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

232 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरे वासते बहुत उदास हां मैं रब्बा मेल तूं चिरीं विछुंनियां नूं
हथी मापयां ने दिती जालमां नूं लगा लूण कलेजयां भुंनयां नूं
मौत अते संजोग ना टले मूले कौन मोड़दा साहयां पुनयां नूं

शब्दार्थ