भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

237 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साडी खैर है चाहुंदे खैर तेरी फेर लिखो हकीकतां सारियां जी
पाक रब्ब ते पीर दी मेहर बाझों कौन कटे मुसीबतां भारियां जी
मौजू चैधरी दा पुत चाक होके चूचक सयाल दीयां खोलयां[1] चारियां जी
दगा देके आप चढ़ जान डोली चंचल हारियां एह कुआरियां जी
सप रसियां दे करन मार मंतर तारे देंदियां जे हेठ खारियां जी,
पेके जटां नूं मार फकीर करके लैण सौहरे जा घुमकारियां जी
आप नाल सुहाग दे जो रहन पिछे ला जावन पिचकारियां जी
सरदारां दयां पुतरां चाक करके आप मलदियां जा सरदारियां जी
वारस शाह ना हारदियां असां कोलौं राजे भोज थीं एहना हारियां जी

शब्दार्थ
  1. डंगर