भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

249 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुसीं जोग दा पंथ बताओ मैंनूं शौक जागया हरफ[1] नगीनयां दे
एस जोग दे पंथ विच आ वड़या छपन ऐब सवाब कमीनयां दे
हिरस अग ते सबर दा पवे पानी जोग ठंड घते विच सीनयां दे
इक फकर ई रब्ब दे रहन साबत होर थिड़कदे अहल[2] खजीनयां दे
तेरे दर ते आन मुथाज होए असीं नौकर हां बाझ महीनयां दे
वारस हो फकीर मैं नगर मंगां छडां वायदे एहनां रोजीनयां[3] दे

शब्दार्थ
  1. अक्षर
  2. खज़ाने का मालिक
  3. वजीफे