भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

254 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बचा! सैं तूं जिस कलबूत अंदर सचा रब्ब है थाओं बनाए रहया
माला मनकयां दे विच इक धागा तिवें सरब दे विच समा रहया
जिवें पतरी मेंहदी दे रंग रचाया तिवें जान जहान में आ रहया
जिवें रकत सरीर विच सास अंदर तिवें जात में जोत समा रहया
रांझा बन्नके खरच ही मगर लगा जोगी अपरा जोर सब ला रहया
तेरे दुअर जोगा हो रिहा हां मैं जोगी जट नूं कथा समझा रहया
वारस शाह मियां जिहनूं इशक लगादीन दुनी दे कम थीं जा रहया

शब्दार्थ