भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

71 से 80 तक / तुलसीदास / पृष्ठ 4

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पद 77 से 78 तक

(77),

जानकी-जीवन, जग-जीवन, जगत-हित,
जगदीस, रघुनाथ, राजीवलोचन राम।

सरद-बिधु-बदन, सुखसील, श्रीसदन,
सहज सुंदर तनु, सोभा अगनित काम।1।

जग-सुपिता, सुमातु, सुगुरू, सुहित, सुमीत,
 सबको दाहिनो, दीनबन्धु, काहूको न बाम।

आरतिहरन, सरनद,अतुलित दानि,
प्रनतपालु, कृपालु, पतित-पावन नाम।2।

सकल बिस्व-बंदित, सकल सुर-सेवित,
 आगम-निगम कहैं रावरेई गनग्राम।

इहै जानि तुलसी तिहारो जन भयो,
न्यारो कै गनिबो जहाँ गने गरीब गुलाम।3।


(78)

देव-
दीनको दयालु, दानि दूसरो न कोऊ।
जाहि दीनता कहैां हौं देखौं दीन सोऊ।।

 सुर, नर, मुनि, असुर, नाग, साहिब तौ घनेरे।
 पै तौ लौं जौ लौं रावरे न नेकु नयन फेरे।।

त्रिभुवन, तिहुँ काल बिदित, बेद बदति चारी।
आदि-अंत-मध्य राम! सहबी तिहारी।।

तोहि माँगि माँगनो न माँगनो कहायो।
सुनि सुभाव-सील-सुजसु जाचन जन आयो।।

पाहन-पसु बिटप- बिहँग अपने करि लीन्हे।
महाराज दसरथके! श्रंक राय कीन्हें।।

तू गरीबको निवाज, हौं गरीब तेरो।
बारक कहिये कृपालु! त्ुलसिदास मेरो।।