भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगिका

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:24, 22 फ़रवरी 2016 का अवतरण ('{{KKLangHelpAppeal |भाषा=अंगिका}} <div style="width: 300px; float:right"> <div style="background:#666; border: 1px...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अंगिका भाषा के विकास में रुचि रखने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं से अनुरोध है कि अंगिका कविता कोश के विकास में हमारी सहायता करें
अंगिका भाषा
  • नाम: अंगिका को पहले छेका-छिकी, आंगी, छाई-छोऊ, अंगिकार, छेकरी और थेथी नामों से भी जाना जाता था।
  • क्षेत्र: अंगिका मुख्य-रूप से बिहार (जिला अरारिया, कटिहार, पूर्णिया, किशनगंज, मधेपुरा, सहरसा, भागलपुर, सुपौल, बाँका, जमुई, मुंगेर, लखीसराय, बेगूसराय, शेख़पुरा व खगरिया), झारखंड (जिला साहेबगंज, गोडा, देवघर, पाकुर, दुमका, गिरिडीह व जमतारा), पश्चिम बंगाल (जिला मालदा, उत्तरी दिनाजपुर) में बोली जाती है।