भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अम्बर के आँगन में / एक बूँद हम / मनोज जैन 'मधुर'

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:19, 29 जनवरी 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेघों ने अमृत घट
छलकाया अम्बर से
बॅंूदों ने चूम लिये
धरती के गाल

परदेशी मौसम न
अम्बर के ऑंगन में
टॉंग दिये मेघों के
श्यामल परिधान
वातायन वातायन
गंध घुली सौंधी-सी
दक्खिणी हवाओं ने
छेड़ी है तान

घूम रहे सूरज के
घोड़े औ‘ ऐरावत
फैल गया क्षितिजों तक
सतरंगी जाल

धरती ने गोदे हैं
धानी के गोदने
जादू-सा डाल गया
अन्तस का मोद
सावन की झड़ियों ने
पनघट की मॉंग भरी
नदिया की भर दी है।
सूनी-सी गोद

उतर रहे हंस-यान
नभ थामे पंखों से
धरती को पहनाने
मेघों की माल