भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अस्तित्व / रवि पुरोहित

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:33, 2 जून 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रवि पुरोहित }} Category:मूल राजस्थानी भाषा {{KKCatKavita‎}}<poem>…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाल्यावस्था में
बड्प्पन भाया
जवानी में
लघुता...

दोनों के बीच पाया जब खुद को
आदमी होने का
अहसास ,
अधिक सुहाया
आदमी होने से।

राजस्थानी से अनुवाद: स्वयं कवि द्वारा