भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अस हर नाम जगत भय हारी / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:02, 29 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संत जूड़ीराम |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अस हर नाम जगत भय हारी।
पूरन धाम नाम जिन चीन्हों कलमल विपत विडारी।
है सतसंग रंग जब दरसे सतगुरु शबद विचारी।
पारस परस लोह भयो कंचन जुगन-जुगन सुकारी।
आनंद भवन दरिद्र विनासन वेद उक्त धुन धारी।
भक्त अखंड मुक्त यह डोलत सो प्रीतम की प्यारी।
जूड़ीराम नाम गति येसी कीजै हृदय अधारी।