भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आतुर आकाश / महेश चंद्र द्विवेदी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:30, 27 अक्टूबर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महेश चंद्र द्विवेदी }} {{KKCatKavita‎}} <poem> क्षितिज मे आतु…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्षितिज मे आतुर आकाश को धरा से है मिलते देखा,
बाँहों मे भरने के प्रयास पर जो बन जाता है मरीचिका;
आकाश विशाल है, उसका अनुभव और विस्तार है महान,
क्षितिज है मृगतृष्णा, फिर भी वह इस सत्य से अनजान ।