भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदम और हौवा के मानी / सरोज सिंह

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:10, 23 जनवरी 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सरोज सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिटटी से बने आदम
और...
उसकी पसली से बनी हौवा का
जन्नत से निकाले जाने का कसूर, सिर्फ इतना ही तो था
कि उन दोनों ने जिस्मानी फ़र्क को जान लिया था
ज़मीं पर आते-आते उस फर्क ने काफी फासला तय कर लिया
अब ज़मीं पर हौवा के पैदा होते ही उसे उढ़ा दिया जाता है
शर्म हया, सब्र, चुप्पी का जामा
और वो खुद ब खुद हिस्सा बन जाती है
आधी आबादी कहे जाने वाले उस ज़हादती जमाअत का
जिसमे पहला सबक यही सिखाया जाता है कि
तू लड़की है, जिम्मेदारी है
तू अबला है, तू नारी है
तू मरियम, है तू दुर्गा है
तू औरत है, लाचारी है
पर अब बस!
अब और नहीं पूजा जाना
अब और नहीं भोगा जाना
सभी फर्क ओ फासले मिटाने होंगे
पुराने सिखाये सबक भूलने होंगे
और...
बदलना होगा आदम और हौवा के मानी
जिसमे लड़की होना कमतर और कमज़ोर नहीं
और लड़का होना क्रूर और कठोर नहींl